Ye waisa dard hai


ये वैसा दर्द है


जैसे कोई परिंदों के परों को काट देता है

जैसे कोई एक आंगन को दो घरों में बांट देता है

जैसे किसी बच्चे को हंसने पर कोई डांट देता है

ये जो है दिल में मेरे ये वैसा दर्द है


जैसे किसी बेगुनाह दिल पर अधूरे इश्क़ का मुक़दमा दर्ज हो

जैसे कोई फौजी बीमार मां से दूर निभाता अपना फर्ज हो

जैसे किसी किसान के सर पर कोई बड़ा कर्ज हो

जैसे किसी टूटी छत वाले घर पर तेज़ बादलों की गर्ज हो

ये जो है दिल में मेरे ये वैसा दर्द है


जैसे नन्हे बच्चे की टूट जाए तख्ती कोई

जैसे समन्दर में डूब जाए कश्ती कोई

जैसे गुमनामी में खो जाए मशहूर हस्ती कोई

जैसे बड़े शहर से नाराज़ हो छोटी बस्ती कोई

ये जो है दिल में मेरे ये वैसा दर्द है


जैसे तुमसे खुद खुदा बेवजह नाराज़ हो

जैसे की ऊपरवाले को नाकुबूल तुम्हारी हर दुआ और नमाज़ हो

जैसे कोई सरेआम बता रहा तुम्हारे राज़ हो

जैसे सिर्फ़ तुम्हे ही सुन रही तुम्हारे दिल टूटने की आवाज़ हो

जैसे ऊंचाइयों पर अकेला उड़ने से डरता एक बाज हो

ये जो है दिल में मेरे ये वैसा दर्द है


जैसे कोई दिल पाक होने की वजह से टूट जाए

जैसे कोई इंसान अपनी ही रूह से रूठ जाए

जैसे सांसों का धड़कनों से साथ छूट जाए

जैसे कोई डकैत अपने ही घर को लूट जाए

जैसे कोई जिंदगी ही थक चुकी हो बिना मकसद के जीने से

जैसे कोई दिल आज़ाद होना चाहे किसी बंजर सीने से

चलो छोड़ो तुम नहीं समझोगे

जो है मेरे दिल में ये कैसा दर्द है


Written by.- Vkay Singh ✍️



ye waisa dard hai


Jaise koi parindon ke paro ko kat deta hai

Jaise koi ek angan ko do ghro mein bant deta hai

Jaise kisi bacho ko hasne par koi dant deta hai

Ye jo hai dil mein mere ye waisa dard hai


Jaise kisi beguna dil par adhure ishq ka mukadma darj ho

Jaise koi foji bimar maa se door nibhata apna farj ho

Jaise Kisi kisan ke sar par koi bda karaj ho

Jaise kisi tuti chhat wale ghar par tez badalo ki garj ho

Ye jo hai dil mein mere ye waisa dard hai


Jaise nanhe bache ki tutjaye takhti koi

Jaise samunder mein dubjaye kasti koi

Jaise gumnami mein kho jaye masur hasti koi

Jaise bade sahar se naaraz ho chhoti basti koi

Ye jo hai dil mein mere ye waisa dard hai


Jaise tumse khud khuda bewajah naraaj ho

Jaise ki uparwale ko nakabul tumahri har dua or nawaj ho

Jaise koi sareaam bta raha tumhare raaj ho

Jaise sirf tumhe hi sun rhi tumhare dil tutne ki aawaj ho

Jaise uchaiyon par akela udne se drta hua ek baaz ho

Ye jo hai dil mein mere ye waisa dard hai


Jaise koi dil pak hone ki wajah se tut jaye

Jaise koi insan apni hi roh se ruth jaye

Jaise sanso ka dhadkano se sath chhut jaye

Jaise koi jindgi hi thak chuki ho bina maksad ke jine se

Jaise koi dil aajad hona chahe kisi banjar sine se

Chalo chhodo tum nhi samjhoge

Jo hai mere dil mein ye kaisa dard hai


Written by.- Vkay Singh ✍️

58 views0 comments

Recent Posts

See All