Tez dhar wala chaku


Tujhse jab door huya to kafi taklif hui, mujhe bda gussa aaya jo apne sath laya anginat swal jinke jwab sirf tumhare paas the lekin tum mujhse door thi. To khud se hi swal karta rahta or khud hi un swalo ke ajib mangadhant jwab de deta jinse kuch palo ke liye ya to dil ko sukoon mil jata ya dil mein jo jakham hai vo thoda or gahra ho jata. Sach puchho to mujhe lagne lga tha ki ye jakham kabhi nhi bharega or na jindgi mein kuch thik hoga Lekin dheere dheere us ghav par har din bit rahe waqt ne apne kache dhago se tanke lagane suru kiye or fir ek aas dikhne lgi ki ye waqt khud hi sab sahi kardega. Or sayad ye sach bhi sabit ho jata lekin fir ek din na chahte hue bhi us khuda se khud ki khushiyon ki duaa mangte hue tera jikar kar betha or tujhe fir wapis lota dene ki usse khuwaish jahir kardi. Or fir us din se meri ankho ke samander mein tere khabo ke saelaab aane suru hogye jinhone mere us har bandh ko tahas nahas kar diya jo maine mere dil ki hifazat ke liye bna rakhe the. Lagne laga jaise mere us jakham ke tanko par kisine tez dhar wala chaku chala diya ho jisse har dhaga kat gya jo us ghav ko bharne mein mera sahayak bna hua tha or dekhte hi dekhte vo jakham or lakho gum fir aazad ho ho gye or meri sab khushiyan kisi pinjre mein kaed ho gyi.

written by.- VkaySingh ✍️


तेज़ धार वाला चाकू तुझसे जब दूर हुआ तो काफ़ी तकलीफ़ हुई , मुझे बड़ा गुस्सा आया जो अपने लाया अनगिनत सवाल जिनके जवाब सिर्फ तुम्हारे पास थे लेकिन तुम मुझसे दूर थी । तो खुद से ही सवाल करता रहता और खुद ही उन सवालों के अजीब मनगदंत जवाब दे देता जिनसे कुछ पलों के लिए या तो दिल को सुकून मिल जाता या दिल में जो जख्म है वो थोड़ा और गहरा हो जाता । सच पूछो तो मुझे लगने लगा था की ये जख्म कभी नहीं भरेगा और न जिंदगी में कुछ ठीक होगा लेकिन धीरे धीरे उस घाव पर हर दिन बीत रहे वक़्त ने अपने कच्चे धागों से टांके लगाने शुरू किए और फिर एक आस दिखने लगी की ये वक़्त खुद ही सब सही कर देगा । और शायद ये सच भी साबित हो जाता लेकिन फिर एक दिन ना चाहते हुए भी मैं उस खुदा से खुद की खुशियों की दुआ मांगते हुए तेरा जिक्र कर बैठा और तुझे फिर वापिस लौटा देने की उससे खुवाईश जाहिर कर दी । और फिर उस दिन से मेरी आंखों के समंदर में तेरे खाबों के सैलाब आने शुरू हो गए जिन्होंने मेरे इस हर बांध को तहस नहस कर दिया जो मैने मेरे दिल की हिफ़ाज़त के लिए बना रखे थे । लगने लगा जैसे मेरे उस जख्म के टांकों पर किसी ने तेज़ धार वाला चाकू चला दिया हो जिससे हर धागा कट गया जो उस घाव को भरने में मेरा सहायक बना हुआ था और देखते ही देखते वो जख्म फिर हरा हो गया और लाखों गम फिर आज़ाद हो गए और मेरी सब खुशियां किसी पिंजरे में कैद हो गई ।


written by.- VkaySingh ✍️

38 views20 comments

Recent Posts

See All