Ant or Suruaat


Main har baar jab kalam uthata hu bas yahi sochta hu ki aaj tere baare mein har baat, tujhse judi har yaad aaj sayahi mein bhigo dunga tere mera hansna, halki halki ruswaiyan, ek dusre par nirbharta, ek dusre ka khyal rakhna sab kuch main in chand panno par utar dunga or tere mere kisson ka main aaj ant likhdunga.


Main suru karta hu tere naam se or fir teri ankhon ki gahraiyo ke baare mein likhte likhte dheere se tere dil ke jajbaato ko apni lekhni mein samjhne or samjhane lagta hu.


Or bs fir ek thahrav aata hai tere dil se jab mere dil ki or jate hue khayali rasto par nikal padta hu or na jane kab har gali, har mohalle or har mod par teri talash suru kar deta hu.


Dhyan hi nhi rahta us waqt gujar rhe waqt ka ki kab vo kuch pal or kuch sabdo mein likhe jane wala kissa ab pure din mein nhi likha ja raha hai.


Fir jab tere khyalo ke sahar se wapis lot'ta hu tab fir ek baar apni kalam ki lagam khichta hu or na jane kitni daffa shabdo ko uthal puthal karta hu taki mujhe koi sira mil ske jiska sahara lete hue main humse jude kisson ke samander ka ek kinara bna kar uske samane purnviram laga sku.


Lakho kosiso ke bavjud jab ek banavti se ant ke karib pahunchta hu "ki bas fir yu hi sab khatam ho gya lekin.."

or sabke ant mein ye ek sabd "lekin" likhkar ek nyi kahani nye kisse or nye safar ki suruwat kar bethta hu.

written by.- Vikash (Vkay Singh)


अंत और शुरुआत



मैं हर बार जब कलम उठता हूं बस यही सोचता हूं की आज तेरे बारे में हर बात, तुझसे जुड़ी हर याद आज स्याही में भिगो दूंगा तेरे मेरा हंसना, हल्की हल्की रुसवाईयां, एक दूसरे पर निर्भरता, एक दूसरे का ख्याल रखना सब कुछ मैं इन चंद पन्नो पर उतार दूंगा और तेरे मेरे किस्सों का आज अंत लिख दूंगा ।


मैं शुरू करता हूं तेरे नाम से और फिर तेरी आंखों की गहराईयों के बारे में लिखते लिखते धीरे से तेरे दिल के जज्बातों को अपनी लेखनी में समझने और समझाने लगता हूं ।


और बस फिर एक ठहराव आता है तेरे दिल से जब मेरे दिल की ओर जाते हुए ख्याली रास्तों पर निकल पड़ता हूं और ना जाने कब हर गली, हर मोहल्ले और हर मोड़ पर तेरी तलाश शुरू कर देता हूं ।


ध्यान ही नहीं रहता उस वक़्त गुज़र रहे वक़्त का की कब वो कुछ पल और कुछ शब्दों में लिखे जाने वाला किस्सा अब पूरे दिन में नहीं लिखा जा रहा है ।


फिर जब तेरे ख्यालों के शहर से वापिस लौटता हूं तब फिर एक बार अपनी कलम की लगाम खींचता हूं और ना जाने कितनी दफ्फा शब्दों को उथल पुथल करता हूं । ताकि मुझे कोई सिरा मिल सके जिसका सहारा लेते हुए मैं हमसे जुड़ी किस्सों के समन्दर का एक किनारा बना कर उसके सामने पूर्णविराम लगा सकूं ।


लाखों कोशिशों के बावजूद जब एक बनावटी से अंत के करीब पहुंचता हूं "की बस फिर यूं ही सब खत्म हो गया लेकिन.."

और सबके अंत में ये एक शब्द "लेकिन" लिखकर एक नई कहानी, नए किस्से और नए सफ़र की शुरुआत कर बैठता हूं ।


written by.- Vikash (Vkay Singh)

45 views4 comments

Recent Posts

See All